ख़बर जहां, नज़र वहां

प्रयागराज में दो दिनों से कोरोना से राहत, शनिवार और रविवार को कोरोना के एक भी नए मरीज नहीं मिले

प्रयागराज में बीते दो दिनों से कोरोना से राहत मिली है. यहां शनिवार और रविवार को कोरोना के एक भी नए मरीज नहीं मिले हैं. पिछले 15 दिनों से प्रतिदिन तीन या चार केस प्रतिदिन मिल रहे थे. अच्छी बात यह रही है कोरोना होने के बाद भी मरीज पूरी तरह से स्वस्थ हैं और किसी मरीज को कोरोना के चलते जान नहीं गंवानी पड़ रही है. मरीजों की संख्या घटने के चलते अब सैंपलिंग भी कम हो गई है.
प्रयागराज में दो दिनों से कोरोना से राहत, शनिवार और रविवार को कोरोना के एक भी नए मरीज नहीं मिले

नई दिल्लीः प्रयागराज में बीते दो दिनों से कोरोना से राहत मिली है. यहां शनिवार और रविवार को कोरोना के एक भी नए मरीज नहीं मिले हैं. पिछले 15 दिनों से प्रतिदिन तीन या चार केस प्रतिदिन मिल रहे थे. अच्छी बात यह रही है कोरोना होने के बाद भी मरीज पूरी तरह से स्वस्थ हैं और किसी मरीज को कोरोना के चलते जान नहीं गंवानी पड़ रही है. मरीजों की संख्या घटने के चलते अब सैंपलिंग भी कम हो गई है.

प्रतिदिन औसतन 3000 सैंपलों की जांच हो रही है. रविवार को तो महज 1800 सैंपलों की जांच हुई है. आज तक की स्थिति यह है कि कोरोना के मात्र 11 एक्टिव केस ही हैं. सभी मरीज होम आइसोलेशन में ही हैं. वह घर पर ही रहकर कोरोना के संक्रमण से मुक्त हो जा रहे हैं.

पिछले 10 मई से 12 मई के बीच प्रतिदिन दो या तीन नए केस मिल रहे थे. 12 दिनों में कुल 30 नए केस सामने आए हैं. सीएमओ डॉ. नानक सरन बताते हैं कि कोरोना की चौथी लहर आने के संकेत मिले थे तो कोविड अस्पतालों में तैयारी कर ली गई थी. यहां तक कि अस्पतालों मॉकड्रिल भी हुआ. लेकिन अब राहत मिली है कि कोरोना के केस में कमी आ गई है.

दो दिनों से एक भी मरीज न मिलने से यह पता चलता है कि खतरा ज्यादा नहीं है. लेकिन खुद को कोरोना से बचाने में सावधानी बरतने की जरूरत है, कोरोना की पहली और दूसरी लहर जैसी स्थिति न होने पाए. बता दें कि अस्पतालों में कोविड प्रोटोकाल का अभी भी पालन किया जा रहा है.आपेरशन के पहले मरीजों का कोविड टेस्ट कराना अनिवार्य है, रिपोर्ट निगेटिव आने पर ही मरीज का ऑपरेशन किया जाता है.

Leave Your Comment
Related News