ख़बर जहां, नज़र वहां

इतिहास में 20 मई का दिन बहुत है खास, 'केवल प्रेयर पीटिशन से स्वराज नहीं मिलनेवाला'

भारतीय स्वाधीनता संग्राम की दिशा तय करने में अहम किरदार निभाने वाली तिकड़ी 'लाल-बाल-पाल' में से एक विपिनचंद्र पाल का 20 मई 1932 को निधन हो गया. उन्हें भारत में क्रांतिकारी विचारों का जनक भी माना जाता है. वे राष्ट्रवादी नेता के साथ-साथ शिक्षक, पत्रकार व लेखक भी थे.
इतिहास में 20 मई का दिन बहुत है खास, 'केवल प्रेयर पीटिशन से स्वराज नहीं मिलनेवाला'

क्रांतिकारी विचारों के जनकः भारतीय स्वाधीनता संग्राम की दिशा तय करने में अहम किरदार निभाने वाली तिकड़ी 'लाल-बाल-पाल' में से एक विपिनचंद्र पाल का 20 मई 1932 को निधन हो गया. उन्हें भारत में क्रांतिकारी विचारों का जनक भी माना जाता है. वे राष्ट्रवादी नेता के साथ-साथ शिक्षक, पत्रकार व लेखक भी थे. 'लाल-बाल-पाल' की तिकड़ी में शामिल लाला लाजपत राय, बाल गंगाधर तिलक और विपिनचंद्र पाल ने 1905 के बंगाल विभाजन का विरोध करते हुए अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ आंदोलन शुरू किया. अपने 'गर्म विचारों' के लिए मशहूर इन नेताओं ने अपने क्रांतिकारी विचारों से भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन को नयी दिशा दी. नरम दल के अहिंसा के माध्यम से आजादी प्राप्त करने में इनका भरोसा नहीं था। इस धड़े का साफ मत था कि केवल प्रेयर पीटिशन से स्वराज नहीं मिलने वाला है.

07 नवंबर 1858 को हबीबगंज जिले में पैदा हुए विपिनचंद्र पाल निजी जीवन में भी अपने विचारों पर अडिग और सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ हमेशा संघर्ष करने वाले शख्सियत रहे. परिवार और समाज के कड़े विरोध के बावजूद उन्होंने एक विधवा से विवाह किया. विचारों की असहमति को प्रकट करने में भी वे कभी पीछे नहीं रहे. इसी वजह से कई मामलों में उन्होंने महात्मा गांधी के विचारों का भी विरोध किया.

कुछ अन्य महत्वपूर्ण घटनाएं...

1900- हिंदी के सुप्रसिद्ध कवि सुमित्रानंदन पंत का जन्म.

1918- 1947 के भारत-पाक युद्ध में अहम भूमिका निभाने वाले भारतीय सेना के बहादुर सैनिक पीरू सिंह का जन्म.

1957- प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी और आंध्र प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री टी. प्रकाशम का निधन हो गया.

2001- अफगानिस्तान में तालिबान ने हिंदुओं की अलग पहचान के लिए ड्रेस कोड बनाया.

2011- प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मप्र के बीना में ऑइल रिफाइनरी देश को समर्पित की.

2011- झारखंड की पर्वतारोही प्रेमलता अग्रवाल ने दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत शिखर माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली सबसे उम्रदराज भारतीय महिला होने का गौरव हासिल किया.

Leave Your Comment
Most Viewed
Related News