ख़बर जहां, नज़र वहां

जम्मू-श्रीनगर हाईवे हुआ बंद.... 150 फुट हिस्सा बहा....

मानसून से पहले हुए तेज बारिश के कारण उधमपुर से रामबन तक जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर 33 जगह भूस्खलन होने से एक हजार से अधिक वाहन फंस गए।
जम्मू-श्रीनगर हाईवे हुआ बंद.... 150 फुट हिस्सा बहा....

मानसून से पहले हुए तेज बारिश के कारण उधमपुर से रामबन तक जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर 33 जगह भूस्खलन होने से एक हजार से अधिक वाहन फंस गए। श्रीनगर में झेलम खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। इससे घाटी में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। अनंतनाग में दो ट्रेकर लापता हो गए। यहां 11 लोगों के साथ सिंथन टॉप से 50, रियासी से 05, शोपियां से 27  को रेस्क्यू किया गया। हिमाचल सीमा पर बनी में बिजली गिरने से दो चरवाहे झुलसे और 44 मवेशियों की मौत हो गई है। मानसून से पहले ही तेज बारिश और उच्च पर्वतीय इलाकों में बर्फबारी ने जम्मू-कश्मीर में कोहराम मचा दिया। उधमपुर से 16 किलोमीटर दूर समरोली के देवाल में पहाड़ से आए मलबे के साथ जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे का 150 फुट हिस्सा तवी नदी में समा गया। हाईवे निर्माण में लगी मशीनरी भी बह गई। उधमपुर से रामबन तक 33 स्थानों पर भूस्खलन से हाईवे बंद हो गया है। एक हजार से अधिक वाहन जगह-जगह फंस गए हैं। रामबन जिले के पीड़ा में नाले पर बन रहा पुल बह गया। कई संपर्क सड़कें भी ध्वस्त हो गई हैं।कश्मीर घाटी में झेलम नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। घाटी में बाढ़ के खतरे के बीच बुधवार को लोगों के घरों में पानी घुस गया। अनंतनाग में ट्रेकिंग करने गए दल के दो ट्रेकर लापता हो गए हैं। रामबन, डोडा, किश्तवाड़, अनंतनाग, श्रीनगर और बारामुला जिलों में स्कूल बंद कर दिए गए हैं। जिला स्तर पर प्रशासन ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं।

Leave Your Comment
Related News