ख़बर जहां, नज़र वहां

संक्रमण से बचाएगा घर का खाना, स्वच्छता में ही छुपी है सेहत.

मौसम बदलने के साथ प्रकृति में कुछ बदलाव आते है. जिसका असर हमारी सेहत पर भी देखने को मिल सकता है. बारिश के मौसम में गर्मी से तो राहत मिल जाती है, लेकिन इस समय संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है. इन दिनों जुखाम, खांसी, वायरल फीवर और दूषित पानी से होने वाली बिमारीयां जैसे डायरिया, डिसेंट्री, उलटी, पेट दर्द और पीलीया के होने की संभावना बढ़ जाती है.
संक्रमण से बचाएगा घर का खाना, स्वच्छता में ही छुपी है सेहत.

मौसम बदलने के साथ प्रकृति में कुछ बदलाव आते है. जिसका असर हमारी सेहत पर भी देखने को मिल सकता है. बारिश के मौसम में गर्मी से तो राहत मिल जाती है, लेकिन इस समय संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है. इन दिनों जुखाम, खांसी, वायरल फीवर और दूषित पानी से होने वाली बिमारीयां जैसे डायरिया, डिसेंट्री, उलटी, पेट दर्द और पीलीया के होने की संभावना बढ़ जाती है. ऐसे में घर का खाने का सेवन कर के हम इन बिमारियों से सुरक्षित रह सकते है.

घर का खाना है लाभदायक

बारिश के मौसम में ठेले पर बिकने वाली चीजे जैसे चाट, गोल गप्पे, मोमोज, पकोड़े और आइसक्रीम का सेवन बिल्कुल न करे. दअरसल इस समय इनके दूषित होने का खतरा ज्यादा होता है. इस दैरान बेहतर सेहत के लिए आपको घर के खाने का ही सेवन करना चाहिए. साथ ही अगर आप बाहर जा रहे है तो अपने साथ घर से ही पानी की बोतल ले कर जाए. हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि पानी को उबालकर कर ठण्डा कर ले, और उसके बाद ही उसका सेवन करे. बारिश में वायरस, बैक्टीरिया, मक्खी और अन्य कीटों की वजह से संक्रमण और फूड प्वायजनिंग का खतरा बढ़ जाता है. इसके बचाव के लिए ताजे भोजन का ही सेवन करना चाहिए. और सब्जियों और फलों को धुलकर खाना चाहिए.

उपचार में न करे देरी

यदि किसी तरह से आप संक्रमित हो जाते है, तो स्वंय किसी दवा का सेवन करने के बजाय चिकित्सक से परामर्श कर लेना चाहिए. परिवार के अन्य सदस्यों को रोगी के कपड़े, बिस्तर, खाने की चीजें आदि सांझा नही करना चाहिए. संक्रमण होने के बाद हमें कुछ बातों पर ध्यान देना आवश्यक होता है, जैसे खाने से पहले हाथों को अच्छे से धुलना, घर में नमी, मच्छर और कीट-पतंगो को पनपने न देना, फलों को धुल कर खाना आदि. इस दिनचर्या को अपना कर हम संक्रमण से जल्दी रिकवर कर सकते है.

Leave Your Comment
Most Viewed
Related News