ख़बर जहां, नज़र वहां

ऊर्जामंत्री ने बिजली कटौती पर कांग्रेस को घेरा...

प्रदेश में हो रही बिजली कटौती के मामले में कांग्रेस की ओर से की जा रही घेराबंदी के बीच प्रदेश के ऊर्जामंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कांग्रेस पर ही आरोप लगाए हैं. आरोप लगाते हुए उन्होंने ऊर्जा मंत्री ने दिग्विजय सिंह पर निशाना साधा.
ऊर्जामंत्री ने बिजली कटौती पर कांग्रेस को घेरा...

प्रदेश में हो रही बिजली कटौती के मामले में कांग्रेस की ओर से की जा रही घेराबंदी के बीच प्रदेश के ऊर्जामंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कांग्रेस पर ही आरोप लगाए हैं. आरोप लगाते हुए उन्होंने ऊर्जा मंत्री ने दिग्विजय सिंह पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह की सरकार में बिजली गुल रहने से कई छात्रों का भविष्य अंधेरे में चला गया था. ऊर्जामंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर को केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का करीबी माना जाता है. नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर गोविंद सिंह की ओर से बिजली कटौती को लिखे गए पत्र में सदन में विशेष सत्र बुलाने और 900 करोड़ के घोटाले के आरोप पर ऊर्जा मंत्री ने कहा कि डॉ. गोविंद सिंह के पास घोटाला के कोई तथ्य हो तो वे पेश करें, हम जांच कराएंगे.

लेकिन उन घटनाओं के पश्चाताप के लिए भी डॉ. गोविंद सिंह मुख्यमंत्री जी को पत्र लिखें. उन घटनाओं की क्षमा याचना के लिए सदन का सत्र बुलाने की मांग करें जो दिग्विजय सिंह के शासनकाल में घटित हुई थीं. खास बात यह है कि दिग्विजय सिंह के कार्यकाल में प्रद्युम्न तोमर कांग्रेस के नेता थे. बल्कि कांग्रेस विधायक के रूप में सत्ता में हिस्सेदार भी थे. नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को लिखे पत्र में आरोप लगाया है. कि प्रदेश में बिजली का संकट गहराता जा रहा है. कोयले की कमी और कुप्रबंधन के चलते प्रदेश के ताप विद्युत गृह बंद होने की कगार पर हैं. मप्र पॉवर जनरेशन कंपनी के चार पॉवर प्लांटों में से तीन पॉवर प्लांट गंभीर स्थिति में हैं. संजय गांधी थर्मल पॉवर प्लांट, सतपुड़ा थर्मल पॉवर प्लांट और श्री सिंगाजी थर्मल पावर प्लांट की विद्युत उत्पादन की क्षमता कोयले की कमी और कुप्रबंधन के कारण आधी रह गई है. इससे प्रदेश में विद्युत संकट गहरा रहा है.

Leave Your Comment
Most Viewed
Related News