ख़बर जहां, नज़र वहां

जल निगम भर्ती घोटाले में आजम खान की पेशी, आरोप तय न होने पर, वापस फिर सीतापुर जेल रवाना

सपा के वरिष्ठ विधायक आजम खान की आज लखनऊ CBI कोर्ट में पेशी हुई.आजम खान की पेशी करीब एक घंटे तक चली. अखिलेश सरकार में हुए जल निगम भर्ती घोटाले में आजम खान की आज पेशी हुई. कोर्ट से बाहर निकलकर आजम अपने वकीलों से बात करते नजर आए. बता दें, इस मामले में आजम को मार्च 2022 में जमानत मिल चुकी है. फिलहाल आज की सुनवाई में आजम खान पर आरोप तय नहीं हो सके। आजम खान 28 महीनों से जेल में बंद हैं.
जल निगम भर्ती घोटाले में आजम खान की पेशी, आरोप तय न होने पर, वापस फिर सीतापुर जेल रवाना

नई दिल्लीः सपा के वरिष्ठ विधायक आजम खान की आज लखनऊ CBI कोर्ट में पेशी हुई.आजम खान की पेशी करीब एक घंटे तक चली. अखिलेश सरकार में हुए जल निगम भर्ती घोटाले में आजम खान की आज पेशी हुई. कोर्ट से बाहर निकलकर आजम अपने वकीलों से बात करते नजर आए. बता दें, इस मामले में आजम को मार्च 2022 में जमानत मिल चुकी है. फिलहाल आज की सुनवाई में आजम खान पर आरोप तय नहीं हो सके। आजम खान 28 महीनों से जेल में बंद हैं.

आपको बता दें कि अखिलेश यादव की सरकार में जब जल निगम की भर्तियों में घोटाले का मामला सामने आया, उस समय आजम खान जल निगम के चेयरमैन थे. लिहाजा उनको इसमें आरोपी बनाया गया था. यूपी जल निगम में 122 सहायक अभियंता, 853 अवर अभियंता, 335 क्लर्क, 32 आशुलिपिक समेत 1342 पदों पर भर्तियां हुई थीं. इन्हीं भर्तियों को लेकर घोटाले का आरोप लगा.

SIT ने अपनी जांच रिपोर्ट में कहा, कंपनी ने JE मेंस और JE एडवांस या GATE में जो परीक्षा प्रक्रिया अपनाई जाती है, उन प्रक्रियाओं को नहीं अपनाया. इससे लिखित परीक्षा पर सवाल खड़े होते हैं. लिपिक परीक्षा में 1,06,770 अभ्यर्थियों ने भाग लिया, जिनमें से सिर्फ 335 पास हुए. जांच में SIT को शक हुआ कि जिस उत्तर पुस्तिका का मूल्यांकन हुआ, वह अभ्यर्थी की वास्तविक है या नहीं इसकी पुष्टि भी नहीं की जा सकती. SIT ने इस मामले में धोखाधड़ी, षड्यंत्र, फर्जी दस्तावेज तैयार करना और सबूत मिटाने की धाराओं चार्जशीट दाखिल कर दी थी

Leave Your Comment
Most Viewed
Related News